Haptens antigen in hindi

हेप्टेन्स एन्टीजन क्या हैं ? ( Haptens in hindi )

हेप्टेन्स वे छोटे रासायनिक समूह ( groups ) होते हैं स्वयं प्राणी की देह में प्रतिरक्षी काय को अपने अकेले के बल पर उत्पन्न कराने में अक्षम होते हैं , किन्तु प्रतिरक्षी काय के साथ विशिष्ट रूप से प्रतिक्रिया दर्शाते हैं अर्थात् केवल क्रियाशीलता ( reactivity ) का गुण दर्शाते हैं । हेप्टेन्स किसी बड़े वाहक अणु के साथ संलग्न होकर देह में प्रवेश कर जाते हैं एवं प्रतिरक्षीजनी ( immunogenic ) बन जाते हैं । ये सरल अथवा जटिल प्रकार के हो सकते हैं । सरल प्रकार के हेप्टेन्स विशिष्ट प्रतिरक्षी काय के साथ अवक्षेप बनाते हैं या अवक्षेपित हो जाते हैं जबकि जटिल प्रकार के हेप्टेन्स अवक्षेपित नहीं होते हैं । सरल प्रकार के हेप्टेन्स विशिष्ट प्रतिरक्षी काय के सम्बन्धित प्रतिजन से अवक्षेप बनाने में रोधक का कार्य करते हैं । जटिल व सरल हेप्टेन्स को पॉलीवेलेन्टयूनीवेलेन्ट ( polyvalent and univalent ) हेप्टेन्स भी कहते हैं । यह माना जाता है कि अवक्षेप बनाने हेतु एन्टीजन पर दो या अधिक प्रतिरक्षीकाय संलग्न स्थन होने आवश्यक हैं । इस प्रकार हेप्टेन वह सूक्ष्मतम अणु है जो इकाई का कार्य करता है । उदाहरण डाइनाइट्रोफिनाइल ( DNP ) एवं पेनिसिलीन । पेनिसिलीन का आणविक भार मात्र 300 होता हे यह पोषक की देह में किण्वन की क्रिया द्वारा छोटे – छोटे खण्डों में टूट जाती है । ये खण्ड पोषक की देह में उपस्थित बड़े अणुओं के साथ संयोजित होकर प्रतिजनिक हेप्टेन संवहक जटिल ( antigenic hapten carrier complex ) बना लेते हैं जो प्रतिरक्षीकाय ( antibodies ) के निर्माण की क्रिया को प्रेरित करते हैं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *