एन्टीजन एन्टीबॉडी‌ की अवक्षेपण क्रिया Precipitation in hindi

एन्टीजन एन्टीबॉडी‌ की अवक्षेपण क्रिया Precipitation reaction

अवक्षेपण ( Precipitation ) – जब विलयशील एन्टीजन अपने से सम्बन्धित एन्टीबाँडी से मिलता है एवं अन्य कारक तापक्रम, pH व विद्यत अपघटय ( electrolytes ) जैसे Nacl आदर्श मात्रा में उपस्थित रहते हैं तो एन्टीजन एन्टीबॉडी जटिल अघुलनशील अवक्षेप बनाते हैं । यह अवक्षेप इन दोनों की मात्रा पर निर्भर करता है । कभी – कभी एन्टीजन एन्टीबॉडी जटिल निलम्बित कणों ( suspended particles ) के रूप में होता है इसे ऊर्णन ( flocculation ) कहते हैं । अवक्षेप बनने की क्रिया तरल माध्यम या जेल ( gel ) जैसे एगार ( agar ) , एगरोज ( agarose ) में होती है । भाग लेने वाले एन्टीजन व एन्टीजन की मात्रा या प्रतिशत के आधार पर अवक्षेप की मात्रा व गुणत्ता ( quality ) निर्भर करती । है । अलग – अलग परखनलियों में इनकी विभिन्न मात्राओं के मिलाने पर विभिन्न लक्षणों वाले अवक्षेप प्राप्त किये जा सकते हैं ।

मरेक ( Marrack , 1934 ) के अनुसार अवक्षेप भाग लेने वाले अणुओं के मध्य जालक ( lattice ) के द्वारा बनाया जाता है एवं । इन अणुओं की संयोजकता द्वारा प्रभावित होता है ।

A में एन्टीबॉडी की मात्रा तथा B में एन्टीजन की मात्रा अधिक होने पर तथा C में बराबर होने पर जालक बनने की क्रिया को समझाया जा सकता है ।

अवक्षेप क्रिया का उपयोग एन्टीजन के परीक्षण के लिये अथवा रोगी में संक्रमण की जाँच के लिये किया जाता है । यह परीक्षण रक्त , वीर्य , भोजन विषाक्तता आदि के मामलों में भी किया जाता है ।  forensic application से इसका महत्व और बढ गया है । यह परीक्षण स्लाइड (slide) पर, टेस्ट ट्यूब में अवक्षेप बनने की क्रिया या ring के‌ बनने की क्रिया द्वारा किया जाता है ।

तरल माध्यम की अपेक्षा जेल माध्यम में बना अवक्षेप अधिक स्थायी व स्पष्ट होता है । इसे इम्यूनोडिफ्यूजन ( immunodiffusion ) कहते हैं । यह 1 % एगार जेल माध्यम में किया जाता है । आजकल आधुनिक तकनीक द्वारा इलेक्ट्रोफोरेसिस ( electrophoresis ) की मदद से यह क्रिया तीव्र व अधिक स्पष्ट की जाने लगी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *